दिखावटी समाज सेवा

सिरोही शहर के मुख्य जल स्त्रोतों में एक कालका तालाब में आप आए दिन समाजसेवियों द्वारा सफाई कार्य में योगदान के क्रिया कलापों को अखबारों के माध्यम से देखा होगा। जरूर यह सराहनीय कार्य है, लेकिन इन समाज सेवियों में कुछ ऐसे बहु चर्चित समाज सेवी है जिनके द्वारा बारिश के दौरान इसी कालका तालाब को प्रदुषित किया जाता है। आप समझे नहीं तो हम आपको विस्तृत में बताते है।
बारिश के समय प्राकृतिक नाले झोब व बूझ का पानी जब कालका तालाब में पहुंचता है, उससे पहले उसे शहर की तीन प्रमुख होटलों के गंदे पानी से मेल-मिलाप करना होता है। इन होटलों से निकलने वाला गंदा पानी व सड़ा गला भोजन इस प्राकृतिक नाले में डाला जाता है और यहीं गंदा पानी बहकर कालका तालाब में पहुंच कर तालाब को प्रदुषित करता है। दूसरी ओर इन्हीं होटलों के मालिकों द्वारा कालका तालाब में फैली गंदगी को सफाई अभियान कार्यक्रम के दौरान बढ-चढ़कर भाग लेकर गंदगी को निकाल कर जनता के सामने अपने आपको एक स्वच्छ छवी का समाज सेवी सिद्ध करते है। ऐसे कृत्य करके भी इन समाज सेवियों को प्राकृतिक संसाधनों के साथ होने वाले खिलवाड का कोई मलाल नहीं होता है। ऐसा नहीं है कि शहर की जनता व प्रशासन को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है, फिर भी इनकी होटलों द्वारा फैलाई जाने वाली गंदगी का शहर वासी विरोध करने से कतराते है। प्राकृतिक संपदा या संसाधनों के साथ खिलवाड़ इंसान को सदा मंहगा पडता है। कहीं ऐसा ना हो कि टांकरिया बस्ती और इन होटलों का मैलापन इस तालाब को प्रदुषित कर समूल नष्ट ना कर दें। जरा सोचा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »