आपराधिक रिकॉर्ड छुपाकर लड़ रहे सभापति का चुनाव

  • चुनाव आयोग के नामांकन में भी दर्ज नहीं की सूचना,
    झूठा शपथ पत्र किया पेश
  • जिला निर्वाचन अधिकारी ने भी कहा सूचना देनी पड़ती है
  • विधायक बोले मुझे जानकारी नहीं
  • आपत्ति दर्ज हुई, रिटर्निंग अधिकारी ने की खारिज

सिरोही। नगर निकाय चुनाव में कल 26 नवम्बर 2019 को नगर परिषद् सिरोही में सभापति के चुनाव होने है जिसमे कांग्रेस के प्रबल दावेदार महेंद्र कुमार मेवाड़ा उर्फ़ मनु भाई सभापति के प्रबल दावेदार है लेकिन निर्वाचन आयोग की तय गाइडलाइन के बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र कुमार मेवाड़ा ने व्यक्तिगत सूचनाएं छुपाकर चुनाव लड़ रहे हैं। न्यायालय द्वारा प्रसंज्ञान लेने के बाद आपराधिक प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन होने के बावजूद पार्षद के चुनाव के लिए भरे गए नाम निर्देशन पत्र (नामांकन) में आपराधिक रिकॉर्ड शून्य बता दिया। इससे निर्वाचन विभाग के नियमों को धत्ता बताकर चुनाव लडऩे की प्रत्याशियों मेवाड़ा की गफलत सामने आ गई है।
जानकारी के अनुसार शांतिनगर सिरोही निवासी महेंद्र कुमार मेवाड़ा (मनु भाई) पुत्र बाबूलाल मेवाड़ा बतौर कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में नगर निकाय चुनाव में नामांकन भरा। पार्षद निर्वाचित होने के बाद अब महेंद्र कुमार मेवाड़ा ने सभापति के लिए भी नामांकन दाखिल कर दिया, जिन्होंने नाम निर्देशन पत्र में आपराधिक रिकॉर्ड वाले कॉलम में सूचना शून्य दर्शा दी गई। इससे चुनाव आयोग को गुमराह करने की महेंद्र कुमार मेवाड़ा की गफलत सामने आ गई है। इसको लेकर कुछ लोगों ने रिटर्निंग अधिकारी सिरोही को आपत्ति भी दर्ज करा दी गई। हालांकि रिटर्निंग अधिकारी द्वारा आपत्ति को खारिज कर दिया है।
झूठा शपथ पत्र कर दिया पेश
कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र कुमार मेवाड़ा द्वारा नगर निकाय चुनाव में नाम निर्देशन पत्र में दिए शपथ पत्र में भी झूठी सूचना पे्रषित करके रिटर्निंग अधिकारी को गुमराह करने का प्रयास किया गया है। उनके खिलाप न्यायालय न्यायिक मजिस्ट्रेट, पिण्ड़वाड़ा में सरकार बनाम अशोक मेवाड़ा व अन्य में धारा 385, 193, 120 ख भारतीय दंड संहिता फौजदारी मूल प्रकरण संख्या 299/2016 मुकदमा चल रहा है। जो अभी ट्रायल पर है। और इसकी अगली पेशी 23 दिसम्बर 2019 को है।

सभापति बनने की दौड़ से बाहर होने के डर से छिपाई जानकारी

महेंद्र मेवाड़ा अब नगरपरिषद में सभापति के मुख्य दावेदार है। इससे लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है कि आखिर मेवाड़ा ने चुनाव आयोग को सही जानकारी क्यों नहीं बताई। आपराधिक रिकॉर्ड बताने से फार्म निरस्त होने के डर से चुनाव आयोग से जानकारी छिपाई गई जबकि इस मामले में आपत्ति दर्ज हुई और उसके बाद रिटर्निंग अधिकारी सिरोही द्वारा आपत्ति को खारिज कर दिया गया।

मेरे विरुद्ध कोई प्रकरण नहीं
मैंने नामांकन में सही जानकारी दी है। मेरे विरुद्ध कोई आपराधिक प्रकरण दर्ज नहीं है।
महेंद्र कुमार मेवाड़ा, कांग्रेस प्रत्याशी

मुझे इसकी जानकारी नहीं
सिरोही-शिवगंज विधायक संयम लोढ़ा ने बताया कि मुझे इसकी जानकारी नहीं है और जो धाराएं आपने बताई है जिसके अन्तर्गत मुकदमा चल रहा है तो मुकदमा उस दायरे में नहीं आता है इन धाराओं में यदि सजा होती है तो दो साल से कम की है उसमें कवर ही नहीं होता है।

संयम लोढ़ा, सिरोही-शिवगंज विधायक

सूचना देनी पड़ती है
जिला निर्वाचन अधिकारी सिरोही (जिला कलक्टर) ने कहा की सूचना देनी पड़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: